Saturday, August 14, 2010

विश्वास करके मैने हज़ार ठोकरें खायीं
फिर भी रेखाएं हाँथ की उल्टी पायीं

विजय कुमार श्रोत्रिय