Sunday, March 2, 2014

वक़्त

आज जाता है कल कहाता है
चाँद सूरज पे मुस्कराता है
रात-दिन आज-कल नहीं होते
वक़्त आता है वक़्त जाता है