Friday, January 24, 2014

राह


मैं आंखें खोलकर चल लूं 
तुम आंखें खोलकर देखो
मुझे जो भी मिले रस्ता 
मिले राही मगर देखो
नहीं गन्तव्य से मतलब 
नहीं पहुंचूं नहीं चिंता 
मैं इतना सोच सकता हूँ 
स्वयं हित छोड़ कर देखो
====================