Monday, June 25, 2012

विविधता

23

मुझे कंकड़ बताते हैं, विविधता माध्य होती है,
सभी रंगों मे सलग्न होकर, साध्य होती है, 
विविध आदत, विविध मापक, विविध रोना, विविध बोना,  
मैं इतना सोच सकता हूँ, बहुत आराध्य होती है।