Tuesday, July 13, 2010

मेरी बर्बादी का चर्चा 
शहर की हर गली मे है 
ये कोई खेल नहीं है
जो हर कोई खेले
<विजय कुमार श्रोत्रिय>
28 January 1989...Bareilly....UP