Friday, February 8, 2013

मैं इतना सोच सकता हूँ - 12


60

दिखाई दे रहे सम्बन्ध बेमानी से लगते हैं
सभी अनुबंध में बंधकर नरक पानी से लगते हैं
वो इक एकांत में बैठा उन्ही धागों को सीता है