Thursday, March 7, 2013

गन्तव्य


65

एक वो हैं और एक हूँ मैं एक पथ है और एक वाहन है
एक होना अनेक होना है क्योंकि उपलब्ध आज साधन है
दूरियाँ बढ रहीं हैं नदियों सी सबका गन्तव्य एक होकर भी
सोच सकता हूँ बस यही अब मैं डूबकर ही शरीर पावन है 

-------------

3 comments:


  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति भाई साहब .

    ReplyDelete
  2. दूरियाँ बढ रहीं हैं नदियों सी सबका गन्तव्य एक होकर भी

    बहुत सही कहा आपने
    सादर!

    ReplyDelete

  3. मैं बदलना चाहता हूँ क्यों सरल में हर जटिल को
    और देना चाहता हूँ इक दिशा बहते सलिल को
    प्रश्न मुझको भेद करते सोच पर्वत पात ढलते
    सोच सकता हूँ मैं इतना श्वेत होना उस कपिल को

    कोई लम्बी काव्य रचना चल रही है ....?

    ReplyDelete